Back
Home » स्‍वास्‍थ्‍य
यूवी रोशनी से भी खत्‍म हो सकता है कोरोना वायरस, जानिए WHO की राय
Boldsky | 2nd May, 2020 02:49 PM

सारी दुन‍िया कोरोना वायरस के कहर से परेशान है। कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए वैज्ञानिकों द्वारा वैक्सीन तैयार की जा रही है। इस वक्त जब सारी दुनिया इस महामारी की मार झेल रही है। वहीं, दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस से बचाव के लिए कई तरह के दावे किए जा रहे । दावों में से एक ये है कि सूर्य के प्रकाश में मौजूद अल्‍ट्रा-वायलेट किरणें हाथों को डिसइंफेक्‍ट कर सकती है. इस तरह के पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद लोगों ने कई तरह के नुस्खें अपनाएं हैं, लेकिन क्या ये वाकई फायदेमंद है? इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक पोस्‍ट के जर‍िए अपने विचार व्‍यक्‍त कि‍ए है।

कहता है WHO

सूर्य के प्रकाश में मौजूद अल्‍ट्रा- वायलेट या UV किरणें, जिन्‍हें पराबैंगनी किरणें भी कहा जाता है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा किए गए पोस्ट के अनुसार, अल्ट्रा-वायलेट किरणों में इतनी ज्यादा तपन होती है कि ये शरीर की कोशिकाओं को नष्ट करने लगती है। साथ ही ये मनुष्य की आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा स्पष्ट किया गया है कि हाथों को डिसइंफेक्ट करने के लिए किसी भी स्थिति में अल्टा-वायलेट लाइट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

कोरोना वायरस से बचाव के तरीके

कोरोना वायरस का वर्तमान में किसी तरह का कोई सटीक इलाज नहीं है। जब तक इस वायरस का इलाज नहीं मिल जाता है तब तक हमें सावधानी बरतने की आवश्यकता है। हालांकि भारत में कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीजों के प्लाजा से बाकि मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

- कोरोना वायरस से बचाव का सबसे सटीक और आसान तरीका है खुद को और अपने आस-पास के क्षेत्र को साफ-सुथरा रखना।

- किसी भी सामान को छूने के बाद हाथों को साबुन और पानी से 20 सेकेंड तक धोना या सैनेटाइजर का इस्तेमाल करना।

- घर के बाहर निकलते वक्त मास्क और दस्तानों को इस्तेमाल करना।

- अपने परिवार और दोस्तों से सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना।

- बाजार से फल, सब्जियां और अन्य सामान खरीदने के बाद उन्हें अच्छे से क्लीन करें।

 
स्वास्थ्य