Back
Home » समाचार
नितिन गडकरी के सामने चुनाव लड़ चुका है साजिशकर्ता आसिम, यूट्यूब पर किया था कमलेश की मौत का ऐलान
Oneindia | 23rd Oct, 2019 10:25 AM

लखनऊ। हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड में लगातार नए खुलासे हो रहे है। वहीं, गुजरात एटीएस ने हिरासत में लिए साजिशकर्ता सैयद आसिम अली के बारे में भी एक नया खुलासा किया है। आसिम अली ने महाराष्ट्र की नागपुर लोकसभा सीट से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा था। आसिम ने ये चुनाव भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के खिलाफ माइनॉरिटी डेमोक्रेटिक पार्टी के बैनर पर लड़ा था। आपको बता दें कि आसिम को कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश रचने के आरोप में नागपुर से हिरासत में लिया था। एजेंसियों की जांच में सैयद आसिम अली के कई वीडियो यूट्यूब पर मिले हैं। एक वीडियो में सैयद आसिम अली ने कहा है, "कमलेश तिवारी अपनी मौत के करीब है, गुस्ताखी की सजा मौत है।"

यूट्यूब पर किया था 'सजा-ए-मौत' का ऐलान

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सैयद आसिम अली 'सुन्नी यूथ ब्रिगेड' नाम का संगठन चलाता है। यूट्यूब पर आसिम अली के कई वीडियो हैं जिसमें हिन्दू नेताओं, आरएसएस और बीजेपी को लेकर टिप्पणी की गई है। 25 अक्टूबर 2017 में आसिम ने यूट्यूब पर अपना एक वीडियो डाला था, जिसमें कमलेश तिवारी को चुनौती देते हुए उसे मौत की सज़ा देने की बात कही थी। वीडियो में आसिम ने कहा, "कमलेश तिवारी अपनी मौत के करीब है, गुस्ताखी की सजा मौत है।" अब यह बयान भी अब पुलिस जांच का हिस्सा है।

हत्यारोपियों के संपर्क में आया था आसिम

अपने ऐसे बयानों और पार्टी के ज़रिए ही आसिम हत्यारोपियों के संपर्क में आया था। कमलेश की हत्या के लिए अशफ़ाक और मोइनुद्दीन को भड़काने का शक आसिम पर है। बताया जा रहा है कि हत्यारोपियों ने कमलेश की हत्या को अंजाम देने के बाद आसिम को फोन किया था। सूत्रों के मुताबिक, आसिम ने ही आरोपियों को बरेली में एक मौलाना की मदद से रुकवाया था, जहां आरोपियों ने अपना इलाज भी करवाया था। आसिम ने ही आरोपियों को नेपाल निकलने की सलाह और मदद दी थी। फिलहाल आसिम को पुलिस ने कमलेश तिवारी की हत्या की साज़िश रचने के मामले में गिरफ्तार किया है। बुधवार को लखनऊ पुलिस आसिम की पुलिस कस्टडी रिमांड मांगेगी।

ये भी पढ़ें:- Kamlesh Tiwari murder case: हत्यारोपियों को लखनऊ लाने के लिए यूपी पुलिस गुजरात रवाना, हत्या के पीछे बताई ये वजह

   
 
स्वास्थ्य