Back
Home » ताजा
अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर बाजार की कीमत बिगाड़ने का आरोप, भारत सरकार ने मांगा जवाब
Gizbot | 21st Oct, 2019 05:20 PM

अमेज़न और फ्लिपकार्ट से भारत सरकार ने कुछ सवालों के जवाब मांगे हैं। दरअसल इन दोनोंं ई-कॉमर्स कंपनियों पर आरोप लगाएं जा रहे हैं कि इन्होंने भारतीय मार्केट में प्रॉडक्ट्स की कीमतों को बिगाड़ दिया है। भारत सरकार ने इसकी जांच कराने का आदेश दिया है और जांच हो भी रही है। अमेज़न और फ्लिपकार्ट लगभग हर वक्त में किसी ना किसी सेल का आयोजन करती रहती है।

इस वक्त इन दोनों ई-कॉमर्स वेबसाइट पर दिवाली सीजन चल रहा है। दिवाली के असवर पर इन दोनों प्लेटफॉर्म पर कंपनियां अपने यूज़र्स को सभी प्रॉडक्ट्स पर आकर्षक ऑफर, डिस्काउंट और कैशबैक दे रही है। भारतीय यूज़र्स भी अब ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ज्यादा भरोसा करने लगे हैं। अब शहरी के साथ-साथ ग्रामीण लोग भी ई-कॉमर्स कंपनियों पर भरोसा करने लगे हैं।

अमेज़न और फ्लिपकार्ट ने बिगाड़ा मार्केट रेट

इन दोनों कंपनियों पर हर त्योहार या किसी खास अवसर पर कई तरह के डिस्काउंट और ऑफर्स दिए जाते हैं। इस वजह से यूज़र्स अब इन सेल का इंतजार करती है। इसका सीधा असर ऑफलाइन मार्केट में कई व्यापारियों पर पड़ रहा है। व्यापारियों का कहना है कि अमेज़न और फ्लिपकार्ट प्रॉडक्ट्स को काफी कम कीमत में पेश कर रही है, जिससे मार्केट रेट बिगड़ रहा है।

यह भी पढ़ें:- फ्लिपकार्ट बिग दिवाली सेल कल से होगी शुरू, इन स्मार्टफोन्स पर मिलेगा भरपूर डिस्काउंट

इस पर सरकार ने भी अमेज़न और फ्लिपकार्ट से अपने-अपने टॉप-5 विक्रेताओं के नाम और अपने-अपने पसंदीदा विक्रेताओं की सूची बनाकर देने को कहा है। इसके अलावा अमेज़न और फ्लिपकार्ट को मिलने वाले समर्थन का भी ब्यौरा सरकार ने उन दोनों कंपनियों से मांगा है। भारत सरकार के अधिन डीपीआईआईटी यानि उद्योग संवर्द्धन एवं आंतरिक व्यापार विभाग ने अमेज़न और फ्लिपकार्ट दोनों को अलग-अलग सवालों की लिस्ट बनाकर भेजा है। इसमें डीपीआईआईटी ने इन दोनों कंपनियों से उनका पूरा ब्यौरा देने को कहा है।

कम कीमतों में प्रॉडक्ट्स बेचने पर दिक्कत

आपको बता दें कि कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स की बार-बार शिकायतों करने के बाद सरकार ने इन कंपनियों को सवाल पूछे हैं। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने साफ-साफ कहा कि इन दोनों का त्योहार सीजन शुरू हो गया है जोकि सीधा-सीधा एफडीआई के नीतियों को उल्लंघन है।

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स का कहना है कि ये कंपनियां गलत गतिविधियों का इस्तेमाल करके बाजार बिगाड़ने वाली कीमतों को पेश कर रही है। इस संबंध में फ्लिपकार्ट और अमेज़न दोनों कंपनियों को मेल भी भेजा गया था लेकिन किसी ने मेल का जवाब नहीं दिया है।

इस मामले में सुब्रमण्यम स्वामी ने भी आज सुबह ट्वीट करके कहा है कि हमलोग क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके अमेरिका के अमेज़न तक भी पहुंत सकते हैं तो भारत में अमेज़न को ऑर्डर देने की क्या जरूरत है...? उन्होंने अपने ट्वीट में आगे कहा कि व्यापार हमारी संस्कृति का एक ठोस आधार है और अमेज़न उसे खत्म कर देगा। उन्होंने कहा कि सिर्फ अमेज़न और फ्लिपकार्ट ही नहीं बल्कि वॉलमार्ट के साथ भी यही समस्या है।

   
 
स्वास्थ्य